[7000 ₹] मेरा पानी मेरी विरासत योजना आवेदन फार्म 2020 Helpline Number

पानी मेरी विरासत योजना आवेदन फार्म | Haryana mera Pani Meri Virasat Yojana | मेरा पानी मेरी विरासत योजना हरियाणा | पानी मेरी विरासत योजना हेल्पलाइन नंबर

Mera Pani Meri Virasat Yojana: मनोहर लाल खट्टर द्वारा शुरू की गई यह योजना किसानों के लिए है| इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा डार्क जोन में शामिल क्षेत्रों में धान की खेती छोड़ने और धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई करने के लिए आर्थिक सहायता दी जाएगी| राज्य सरकार द्वारा किसानों को 7000 प्रति एकड़ की प्रोत्साहन राशि दी जा रही है| आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना से संबंधित संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करेंगे| किसान भाई जो इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं उनके लिए सरकार द्वारा कुछ दिशानिर्देश निर्धारित किए हैं| पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन की प्रक्रिया से संबंधित संपूर्ण जानकारी हम आपको यहां पर उपलब्ध करने जा रहे हैं।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हरियाणा

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा डार्क जोन में शामिल क्षेत्रों में धान की खेती छोड़ने और धान के स्थान पर अन्य फसलों की बुवाई करने वाले किसानों को राज्य सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान करना ही इस योजना का प्रमुख उद्देश्य है| राज्य सरकार द्वारा मक्का और दलहन की खेती में आवश्यक फार्म मशीनरी उपलब्ध कराने के साथ माइक्रो इरीगेशन और ड्रिप इरिगेशन के लिए 80% सब्सिडी दी जा रही है जिससे जल संरक्षण को बढ़ाया जाएगा और किसानों को फसल विविधीकरण अपनाने के लिए प्रेरित किया जाएगा|

योजना से संबंधित जानकारी

योजना का नाम- मेरा पानी मेरी विरासत योजना
शुरू की गई- मनोहर लाल खट्टर के द्वारा
लाभार्थी- प्रदेश के किसान
आवेदन- ऑनलाइन
लाभ- 7000(प्रति एकड़) आर्थिक सहायता
घोषणा- 6 मई 2020
राज्य- हरियाणा
उद्देश्य– फसल विविधीकरण को बढ़ावा देना और जल संरक्षण करना

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा डिजिटल संदेश जारी करते हुए पानी मेरा विरासत योजना को लांच किया है। उन्होंने किसानों को फसल विविधीकरण को बनाने पर जोर देते हुए डार्क जोन में शामिल क्षेत्रों में धान की खेती छोड़ने वाले किसानों को 7000 राशि दी जाएगी| सीएम मनोहर लाल खट्टर द्वारा यह कहा गया है की योजना के प्रचार के लिए जल्दी एक बार पोर्टल बनाया जाएगा| जिससे अधिक से अधिक किसानों को इसका लाभ प्राप्त हो सके प्रदेश सरकार का प्रमुख उद्देश्य है कि प्रदेश की जनता कोई भी इस योजना से वंचित ना हो और उन्हें इस योजना का लाभ प्राप्त हो सके।

योजना के प्रमुख बिंदु

  1. हरियाणा सरकार द्वारा किसानों के लिए शुरू की गई इस योजना के अंतर्गत 7000 प्रति एकड़ पर प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी|
  2. यह सभी किसानों के लिए है जो डार्क जोन में शामिल है तथा धान की खेती छोड़ चुके हैं और धान के स्थान पर अन्य फसलों की बुवाई करने वाले हैं।
  3. योजना के पहले चरण में प्रदेश के 19 लोगों को शामिल किया गया है|
  4. पहले चरण में किए गए स्थानों का निर्धारण भू-जल की गहराई के आधार पर किया गया है जो कि 40 मीटर या इससे अधिक होना चाहिए| उन स्थानों के लोगों को इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा|
  5. इस योजना के अंतर्गत प्रमुख उन स्थानों को दी चाहिए जहां पर खेती अधिक की जाती है।
  6. इसके अतिरिक्त स्थान प्राथमिकता में रहेंगे जहां पर 50 हॉर्स पावर से अधिक क्षमता वाले ट्यूबवेल का इस्तेमाल किया गया है|
  7. शामिल क्षेत्रों में धान की खेती छोड़ने और धान के स्थान पर अन्य फसलों की बुवाई करने वाले किसानों को राज्य सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी|
  8. इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए किसान का राज्य का स्थाई निवासी होना अति अनिवार्य है|
  9. प्रदेश का प्रत्येक किसान वर्ग इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकता है|

Haryana mera Pani Meri Virasat Yojana

इस योजना के अंतर्गत सबसे पहले उन क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जाएगी जहां पर खेती अधिक की जाती है तथा किसान खेती के साथ जुड़े हुए हैं इन क्षेत्रों में है कैथल के बल और गोला सिरसा फतेहाबाद में हत्या और कुरुक्षेत्र में शाहाबाद इस्लामाबाद पीपली और बबेन| इसके अतिरिक्त बहुत से स्थान ऐसे भी हैं जहां पर खेती करने की अनुमति पंचायत द्वारा नहीं दी गई है जैसे कि पेहवा थानेसर जाखल पटौदी और फतेहाबाद| इन स्थानों पर 35 मीटर से नीचे पानी होगा वहां पर धान की खेती की अनुमति नहीं दी जाएगी| वह स्थान जहां पर 40 मीटर से नीचे पानी जा चुका है वहां पर अन्य फसलों की बिजाई कर सकते हैं जैसे फल, सब्जियां यहां पर उगाई जा सकती है अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास आदि| सरकार मक्का,दाल की खरीदारी करेगी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ही खरीदारी की जाएगी|

किसानों को यह प्रोत्साहन राशि उसी अवस्था में दी जाएगी यदि वह अपनी जमीन पर धान की बुवाई नहीं करेंगे| सरकार द्वारा वर्तमान सीजन में धान के स्थान पर अन्य फसलों की बुवाई करने के लिए आर्थिक सहायता देने का फैसला किया है | मुख्यमंत्री द्वारा हरियाणा आज के कार्यक्रम में उन्होंने सभी प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री द्वारा जल संरक्षण को बढ़ावा देते हुए ही इस योजना को शुरू किया है और उन्होंने साथ में यह भी कहा है कि जिस प्रकार आने वाली पीढ़ी के लिए अपनी जमीन को विरासत के रूप में छोड़कर जाते हैं उसी प्रकार पानी को भी विरासत मानकर चलें तभी जमीन भावी पीढ़ी के लिए उपयोगी होगी|

महत्वपूर्ण दस्तावेज

यदि आप इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपके पास दिए गए कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज होने आवश्यक है जैसे कि:-

आधार कार्ड
स्थाई प्रमाण पत्र
बैंक खाता
क्रेडिट कार्ड
मोबाइल नंबर
पासपोर्ट साइज फोटो

Mera Pani Meri Virasat Yojana Application Form

Mera Pani Meri Virasat Yojana
Mera Pani Meri Virasat Yojana

एक अनुमान के मुताबिक कुछ हिस्से डार्क जोन में है जो लगभग 36 के करीब है| इन क्षेत्रों में पिछले कुछ वर्षों में पानी में भारी गिरावट में है और इसी को मध्य नजर रखते हुए सरकार ने इस योजना को शुरू किया है ताकि आने वाले समय में इस खेती योग्य भूमि को रखा जा सके और यह आने वाली पीढ़ी के लिए सही रहे| 40 मीटर से ज्यादा गहराई वाले 19 ब्लॉक हैं लेकिन 11 ब्लॉक धान की फसल नहीं होती है|कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जहां पर 40 मीटर से ज्यादा गहराई पर है तथा इन्हीं क्षेत्रों के लिए सरकार द्वारा इस योजना को शुरू किया गया है ताकि लोग इस योजना के माध्यम से कोई अन्य खेती कर फसलों का लाभ प्राप्त कर सकें।

एप्लीकेशन फॉर्म : ऑनलाइन

सरकार द्वारा लोगों से यह अपील की गई है कि वह धान के स्थान पर कम पानी से तैयार होने वाली फसलें जैसे कि मक्का अरहर उड़द गवार कपास बाजरा तिल बाग ऋषभ मूंग की बुवाई कर सकते हैं| मक्का की बिजाई के लिए आवश्यक कृषि यंत्रों की भी व्यवस्था की जाएगी| इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा मक्का की फसल के लिए मंडियों में ड्रायर की व्यवस्था भी करेंगे| फिर सभी किसान जो मक्का की बिजाई करना चाहते हैं उनके लिए अच्छे बीजों का उपलब्धता की जाएगी ताकि उन्हें एक अच्छी फसल की पैदावार हो| इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा किसानों को यह भी कहा है कि वह मक्का की खरीदारी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ही करेगी|

पात्रता

  1. हरियाणा राज्य का प्रत्येक किसान इस योजना का लाभ उठा सकता है|
  2. इस योजना के जरिए मक्का अरहर मूंग उड़द कपास सब्जी खेती आदि की खेती के लिए प्राथमिकता दी जाएगी तथा इन फसलों की खरीद सरकार द्वारा न्यूनतम मूल्य पर की जाएगी|
  3. योजना में ही क्षेत्र शामिल होंगे जहां पर 50 हॉर्स पावर से अधिक क्षमता वाले ट्यूबल का इस्तेमाल किया जाता है।
  4. जिस जमीन पर पानी 35 मीटर से नीचे है वह पंचायती जमीन पर धान की खेती नहीं की जा सकती है। तथा वहां के किसान इस योजना के पात्र होंगे|
  5. किसानों को ऐसी खेती करने के लिए प्रोत्साहन किया जा रहा है जिसमें सिंचाई हेतु जल का कम से कम प्रयोग हो रहा है|
  6. ऐसा करने से किसानों का आर्थिक पक्ष मजबूत होगा|
  7. किसानों को इस योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है तथा सरकार द्वारा ₹7000 प्रति एकड़ यह प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी|
  8. इसके लिए प्रदेश का प्रत्येक किसान लाभार्थी होगा तथा वे इसके लिए आवेदन कर सकता है|

दिन प्रतिदिन पानी की कमी को देखते हुए ही सरकार ने यह फैसला किया है। जहां कई संरक्षण बंधुओं ने यह भी कहा है कि इस प्रकार की योजना की शुरुआत 15 साल पहले ही कर देनी चाहिए थी ताकि आज जब पानी कितनी अधिक तंगी है तो उससे निजात मिल सकती लेकिन अभी हम यह कार्य कर सकते हैं। किसानों को सरसों की खरीदी अदायगी के रूप में ₹800 और गेहूं की फसल की अदायगी के रूप में 820 करोड रुपए देने का फैसला किया है| सरकार द्वारा प्रदेश के प्रत्येक किसान जो कि उन क्षेत्रों के अंतर्गत आते हैं जिन्हें सूचीबद्ध तथा डार्क जोन में रखा गया है तो वह इस योजना का लाभ उठा सकते हैं सरकार द्वारा किसानों को इस योजना के प्रति जागरूकता प्रदान करने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है|

Pani Meri Virasat Yojana Registration form

6 मई 2020 को मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा इस योजना की शुरुआत की गई है| इस योजना के अंतर्गत प्रमुख थे वे किसान लाभार्थी रहेंगे जहां पर धान की बुवाई तथा रोपाई नहीं की जाएगी यदि ऐसा वह नहीं करते हैं तो सरकार द्वारा उन्हें अन्य किसी फसल की बुवाई के लिए 85% तक अनुदान प्रदान किया जाएगा| ऐसा करने से किसानों को भी लाभ प्राप्त होगा और वह अन्य फसल के बोने से भी अच्छा का साला प्राप्त कर सकते हैं। सरकार द्वारा किसानों को यह निर्देश दिए गए हैं कि जिन स्थानों में पानी की उपलब्धता है वहां पर 50% धान की रोपाई की जा सकती है|

ऑनलाइन आवेदन

  1. मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ प्रदान करने के लिए केबल सरकार द्वारा पोर्टल लागू किया गया है ताकि लोगों को अधिक जागरूक किया जा सके लेकिन अभी तक आवेदन के लिए आधिकारिक लिंक पर जाये |
  2. इसके अतिरिक्त मेरा पानी मेरी योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को अधिकारिक पोर्टल पर जाना होगा।
  3. अब यहां पर आपको एक लिंक दिखाई देगा जिस पर मेरा पानी मेरी विरासत योजना आवेदन फार्म लिखा रहेगा|
  4. इस लिंक पर क्लिक कर दीजिए अब आपके पास एक नया पेज खुल जाएगा|
  5. यहां पर दी गई जानकारी को सही-सही भर दीजिए| सारी प्रक्रिया होने के बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना है|

इस प्रकार बहुत ही आसानी से आप घर बैठे मेरा पानी मेरी विरासत योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं| यदि आपको आवेदन से संबंधित किसी प्रकार की परेशानी हो रही है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट के माध्यम से हम से संपर्क कर सकते हैं और अपनी समस्या का समाधान हम से प्राप्त कर सकते हैं|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *