बिहार बाढ़ राहत योजना 2020 बिहार बाढ़ राहत 6000 ऑनलाइन अप्लाई

बिहार बाढ़ राहत योजना 2020: बिहार बाढ़ राहत योजना बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी द्वारा शुरू किया गया है इसके अंतर्गत प्रदेश के वे सभी 15 जिले जो बाढ़ से ग्रसित है उन्हें आर्थिक सहायता दी जाएगी। बिहार सरकार द्वारा कुल 136.58 करोड बांटे गए हैं| लोगों को यह सहायता डायरेक्ट उनके बैंक खातों के सहायता से दी जाएगी। इस योजना के अंतर्गत लगभग 2.27 लाख परिवार लाभान्वित किए जाएंगे। बारिश तथा बाढ़ से ग्रसित लोगों को अगले 3 महीनों के अंदर ही 6000 रुपए और 3000 खाद्यान्न खरीदने के लिए प्रदान किए जाएंगे|

बिहार बाढ़ राहत योजना
बिहार बाढ़ राहत योजना

बिहार में बाढ़ से ग्रसित लोगों की संख्या पिछले साल लगभग 7.22 लाख परिवार चयनित किए गए थे और इस बार भी लगभग इतने ही परिवारों को सहायता प्रदान की जाएगी| बाढ़ से लगभग बिहार के 15 जिले ग्रस्त हैं और इन जिलों मैं 95 ब्लॉक और 616 ग्राम पंचायतें हैं| नीतीश सरकार द्वारा इन सभी लोगों को सहायता प्रदान की जाएगी जो बाढ़ से ग्रस्त है। राज्य सरकार ने बाढ़ पीड़ितों को 6000 रुपए की आर्थिक सहायता तत्काल पहुंचाने के लिए कहां है| सरकार द्वारा लोगों को सहायता सीधे उनके बैंक खाते में प्रदान की जाएगी ताकि उन्हें किसी प्रकार की कोई भी दिक्कत का सामना ना करना पड़े और आसानी से वह इसका लाभ उठा सकें|

इस योजना के अंतर्गत ना केवल बाढ़ प्रभावित लोगों को शामिल किया गया है बल्कि जिन क्षेत्रों में सूखा पड़ा है उनको भी सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी इसके अतिरिक्त जिनका पक्का या कच्चा मकान बह गया है परिवार में किसी की मृत्यु हुई है या फिर किसी की फसल बर्बाद हुई है तो उसका भी मुआवजा सरकार द्वारा दिया जाएगा|

बिहार बाढ़ राहत योजना

योजना का नाम- बिहार बाढ़ राहत योजना
शुरू की गई- नीतीश कुमार द्वारा
राज्य- बिहार
लाभार्थी- प्रदेश के लोग(बाढ़ ग्रसित, सूखाग्रस्त, मकान क्षतिग्रस्त होने पर, फसल बर्बाद होने पर)
लाभार्थी राशि- 6000 रुपए
कुल बजट- 136.58 करोड़
उद्देश्य- बाढ़ से प्रभावित लोगों को सहायता प्रदान करना

बिहार सरकार द्वारा सभी बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोगों को सहायता प्रदान करने के लिए एक सूची बना ली गई है| ताकि कोई भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लोग इस योजना से ना छूटे और प्रत्येक व्यक्ति को इसका लाभ मिल सके| प्रत्यक्ष रुप से लाभ पहुंचाने के लिए डीवीडी के जरिए लोगों को सहायता प्रदान की जाएगी| सूत्रों के हिसाब से लगभग 3 लाख से अधिक लोगों को इस योजना के अंतर्गत लाभ प्रदान किया जाएगा| सरकार बाढ़ पीड़ितों की मदद को लेकर सजग और संवेदनशील है यह मुख्यमंत्री जी ने विधानसभा में अपने भाषण को देते हुए कहा था| इस प्रकार सरकार द्वारा लोगों को सहायता प्रदान करने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है ।

बिहार राज्य में उसी जिले को लाभार्थी राशि प्रदान की जाएगी जो जिला प्रभावित क्षेत्र अथवा बाढ़ के अंतर्गत घोषित किया गया है। आपका घर बाढ़ प्रभावित पंचायत या ग्राम में आना चाहिए तभी आप यह योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। पूरी तरह से बाढ़ प्रभावित परिवारों को ही यह सहायता प्रदान की जा रही है यह सहायता प्रदान करने के लिए लाभार्थी के पास आधार कार्ड बैंक अकाउंट पासबुक का मौजूद होना अनिवार्य है नाम पता का विवरण आपको सूची में देना होगा तब आप यह सहायता राशि प्राप्त कर सकते हैं|

बिहार बाढ़ राहत 6000 ऑनलाइन अप्लाई

  • बाढ़ प्रभावित लोगों को सहायता राशि- 6000 रुपए
  • झोपड़ी का पूर्ण नुकसान होने पर सहायता राशि- 4100 रुपए
  • कच्चा मकान आंशिक क्षतिग्रस्त होने पर सहायता राशि- 3200 रुपए
  • पक्का मकान, कच्चा मकान पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त होने पर-95100
  • प्रति हेक्टेयर फसल के लिए-6800 रुपए
  • कपड़े का नुकसान होने पर सहायता राशि- 1800रुपए
  • बर्तन के लिए- 2000 रुपए
  • गाय भैंस की क्षति होने पर- 30,000 रुपए
  • घोड़े की क्षति होने पर- 250000 रुपए
  • 50 मुर्गी क्षति होने पर- 5000 रुपए
  • जानवर के घर के नुकसान होने पर- 2100 रुपए

बिहार में बाढ़ से दिन प्रतिदिन हानि बढ़ती जा रही है । लेकिन अभी तक वह चले जो बाहर से बहुत अधिक प्रभावित हैं वह निम्नलिखित है शिवहर, सुपौल, किशनगंज, सीतामढ़ी, दरभंगा, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, पूर्वी पश्चिम चंपारण, खगड़िया प्रमुख रूप से बाढ़ से प्रभावित हैं और यहां के लोगों को बहुत अधिक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है| सूत्रों के मुताबिक इन क्षेत्रों के लगभग 6 लाख से अधिक आबादी बाढ़ से ग्रसित है| बिहार सरकार द्वारा बहुत ही जल्द बाढ़ प्रभावित लोगों को इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा|

Bihar Badh Rahat 2020

ऑनलाइन आवेदन

बिहार के प्रमुख रूप से यह 10 जिले हैं जहां पर बाढ़ का प्रकोप सबसे अधिक पाया गया है यह लगभग 6.36 लाख से अधिक लोग इस बाढ़ की चपेट में आए हैं और उनकी ना केवल घरों, पशुओं की ना केवल जान-माल की भी हानि हुई है| आंकड़ों के मुताबिक कुल आबादी जो बाढ़ से प्रभावित है वह लगभग 26 लाख के करीब है| जो कि एक बहुत बड़ी संख्या है|

बिहार बाढ़ राहत योजना ऑनलाइन आवेदन

बिहार बाढ़ राहत योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आपको किसी भी प्रकार का कोई भी आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है विभाग द्वारा बाढ़ ग्रसित क्षेत्र के लोगों की सूची तैयार की जाएगी| तथा उसके बाद सीधा उनके बैंक खाते में सहायता राशि प्रदान की जाएंगी। यह सारा डाटा राज्य सरकार के पास अधिकारी द्वारा भेजा जाएगा। बाड़ मे ग्रसित सभी परिवारों को यह राय सहायता राशि प्रदान की जाएगी यह लगभग 6000 प्रति परिवार को लाभ प्रदान किया जाएगा इसके अतिरिक्त परिवार में गाय भैंस बकरी मकान की हानि होने पर भी सहायता प्रदान की जाएगी|

राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा यह सूची तैयार की जाएगी सूची में प्रभावित क्षेत्र के लोगों के नाम, पता और उनका बैंक अकाउंट संख्या आदि की जानकारी प्राप्त की जाएगी। अगर आपके फसल की क्षति हुई है तो इसके लिए सूची कृषि विभाग के माध्यम से तैयार की जाएगी। इसके अतिरिक्त आपको अधिकारी के पास अपना नाम जमा करवाना होगा ताकि वे सूची में आपके नाम को दर्ज कर सके जिससे की सहायता राशि सीधे आपके बैंक खाते में पहुंच जाते और आप उसका लाभ प्राप्त करें।

FAQ

बिहार बाढ़ राहत योजना क्या है?

बिहार बाढ़ राहत योजना बिहार में बाढ़ से ग्रसित लोगों को आर्थिक सहायता पहुंचाने के लिए शुरू की गई योजना है इसके तहत बाढ़ प्रभावित परिवारों को सरकार की तरफ से 6000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

बिहार बाढ़ राहत योजना के तहत कितनी आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी?

बाढ़ प्रभावित लोगों 6000 रुपए ,झोपड़ी 4100 रुपए ,कच्चा मकान क्षतिग्रस्त 3200 रुपए ,पक्का मकान, कच्चा मकान क्षतिग्रस्त-95100 ,प्रति हेक्टेयर फसल-6800 रुपए, कपड़े का नुकसान- 1800रुपए ,बर्तन 2000 रुपए,गाय भैंस की क्षति- 30,000 रुपए ,घोड़े – 250000 रुपए ,50 मुर्गी क्षति – 5000 रुपए,जानवर के घर के नुकसान पर- 2100 रुपए|

बिहार बाढ़ राहत योजना में कितनी सहायता राशि प्रदान की जाएगी?

प्रत्येक परिवार 6000 सहायता राशि बिहार सरकार की तरफ से प्रदान की जाएगी| यह राशि डीवीडी के माध्यम से सीधे बैंक खाते में डाली जाएगी|



Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *